बराबर पहाड़ की गुफाये क्यों है, इतनी रहस्यमयी

बराबर पहाड़ की गुफाये क्यों है, इतनी रहस्यमयी

बराबर पर्वत (Barabar caves in hindi ) –  भारतवर्ष के पुरातन ऐतिहासिक पर्वतों में एक है। 1100 फुट ऊंचे बराबर पर्वत को “मगध का हिमालय” भी कहा जाता है। यहां सात अदभुत गुफाएं भी बनी हुई है। जिनका पता अंग्रेजों के कार्यकाल में चला । इनमें से चार गुफाएं बराबर गुफाएं एवं बाकी तीन नागार्जुन गुफाएं कहलाती है।

गुफाये एक ही चट्टान को काटकर बनाई गई हैं

भारत में पहाड़ों को काट कर बनाई गयी ये सबसे प्राचीन गुफाएं (Barabar gufayen) है। पर्यटन के लिहाज से भी ये काफी उपयुक्त स्थान है। ये पर्वत सदाबहार सैरगाह के रूप में प्राचीन काल से ही चर्चित है। किंवदंतियों के अनुसार पर्वत पर बनी गुफाएं प्राचीन काल में ऋषि-मुनियों के ध्यान साधना लगाने हेतु सुरक्षा के दृष्टिकोण से बनाई गई थी।

गुफाएं प्राचीन समय की कलाकारी को दर्शाती

गया – जहानाबाद सीमा पर अशोककालीन गुफाओं (Barabar gufayen) में कर्ण चैपर गुफा, सुदामा गुफा, लोमस ऋषि गुफा, नागार्जुन गुफा सहित सात गुफायें हैं। गौरतलब है कि कर्ण चैपर, सुदामा और लोमस ऋषि गुफा एक ही चट्टान को काटकर बनाई गई हैं।

देखने में अद्भुत लगने वाली ये गुफाएं प्राचीन समय की कलाकारी को दर्शाती हैं। गुफा के भीतर तेज आवाज में चिल्लाने पर काफी देर तक प्रतिध्वनियों को सुनकर आने वाले पर्यटक काफी रोमांचित होते हैं।

सुदामा गुफा

सुदामा गुफा का निर्माण सम्राट अशोक ने अपने राज्याभिषेक के बारहवें वर्ष में आजीवक साधुओं के लिए बनवाया था। इस गुफा में एक आयताकार मण्डप के साथ वृत्तीय मेहराबदार कक्ष बना हुआ है।

Sudama Cave
Sudama Cave

ये भी जाने

बोधगया तथा गया बिहार का प्रमुख पर्यटन स्थान है

Vishnupad Mandir Gaya जहाँ विष्णु का चरण अंकित है

Maa Mangala माँ मंगलागौरी जो है, चमत्कारी

लोमस गुफा (Barabar caves in hindi)

लोमस ऋषि की विख्यात गुफा का निर्माण भी अशोक ने था। इन गुफाओं का निर्माण मिश्र शैली में किया गया है तथा उस समय के भारतीय कारीगरों के उत्कृष्ट कलाकारी एवं वास्तु विशेषज्ञता का परिचायक है।

मेहराब की तरह के आकार वाली ऋषि गुफाएं लकड़ी की समकालीन वास्तुकला की नक़ल के रूप में हैं। द्वार के मार्ग पर हाथियों की एक पंक्ति स्तूप के स्वरूपों की ओर घुमावदार दरवाजे के ढांचों के साथ आगे बढ़ती है। यहां कई गुफाओं (Barabar gufayen) के अंदर भी गुफाएं है, जहां तक पहुंचना काफी मुश्किल है।

कर्ण चैपर गुफा

अशोक ने अपने राज्याभिषेक के 19वें वर्ष में इसका निर्माण कराया था।

गुफाओं का निर्माण भी मिश्र शैली से किया गया है

यहां मौजूद कर्ण चैपर गुफा (Barabar gufayen) को “सुप्रिया गुफा” भी कहा जाता था। उस समय के लिखे गये शिला लेख आज भी यहां मौजूद हैं। शिलालेखों के अनुसार इस पहाड़ी को सलाटिका के नाम से भी जाना जाता था।

इन गुफाओं (Barabar gufayen) का निर्माण भी मिश्र शैली से किया गया है। यहां चिकनी सतहों के साथ एक एकल आयातकार कमरे का रूप बना हुआ है।

वापिक गुफा

पहाड़ के ऐतिहासिक सप्त गुफाओं में बनी वापिक गुफा में अंकित तथ्यों से ज्ञात होता है कि इसकी स्थापना योगानंद नामक ब्राह्मण ने की थी।

Script on cave wall

मंदिर परिक्षेत्र में पाषाण खड़ों पर की गयी उत्कीर्ण कलाकृति इस पूरे क्षेत्र को प्राचीन शिव अराधना क्षेत्र के रूप में स्थापित करती है। एक अन्य मत के अनुसार आदिकाल में कौल संप्रदाय का मगध पर जो वर्चस्व था, उसका केन्द्र इसी पर्वत को बताया जाता है।

इसकी उत्पत्ति ई.पू. 600 के लगभग मानी जाती है। इन्हें दशरथ द्वारा आजीविका के अनुयायियों को समर्पित किया गया था।

विश्व जोपरी

विश्व जोपरी गुफा (Barabar gufayen) में दो आयातकार कमरे मौजूद हैं जहां चट्टानों को काटकर बनाई गई अशोका सीढियां द्वारा पहुंचा जा सकता है।

नागार्जुनी गुफाएं

नागार्जुन के आसपास की गुफाएं बराबर गुफाओं से छोटी एवं नयी है।

गोपीका गुफा (Barabar gufayen) और वापिया का गुफा लगभग 232 ईसा पूर्व में राजा दशरथ द्वारा आजीविका संप्रदाय के अनुयायियों को समर्पित की गई थी।

Sudama Cave
Sudama Cave

बराबर पहाड़ (Barabar gufayen) में अवस्थित इन गुफाओं को भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण द्वारा संरक्षित क्षेत्र घोषित किया गया है। जिस विशाल चट्टान को खोदकर गुफाएं बनाई गई है उस पर लोगों की आवाजाही बनी रहती है।

Top Sports Items 25% off

अक्सर पर्यटक यहां पिकनिक मनाने आते है। लेकिन पास ही स्तिथ सिद्धेश्वर नाथ महादेव मंदिर पर वैसे यहां सालों भर भक्तगण व पर्यटक आते रहते हैं लेकिन श्रावण मास, बसंत पंचमी एवं  महाशिवरात्री अनंत चतुदर्शी में भक्तों व पर्यटकों का आगमन बड़ी संख्या में होता है।

बराबर पहाड़ पर स्थित सिद्धेश्वर नाथ महादेव मंदिर

वैसे तो संपूर्ण देश में अनेकानेक प्राचीन शिव मंदिर हैं। परन्तु जब बात प्राचीनतम शिव मंदिर की हो तो मगध के बराबर पहाड़ (Barabar caves in hindi) पर स्थित सिद्धेश्वर नाथ महादेव मंदिर का नाम सर्वप्रथम आता है। इसे सिद्धनाथ तीर्थ के रूप में भी जाना जाता है।
महाभारत कालीन जीवंत कृतियों में से एक यह मंदिर आज भी पुरातन शिल्पकृतियों में महिमामंडित प्राचीन आदर्शों से युक्त पूजन परंपरा को जीवित रखे हुए है।
Shiv bhakt
Shiv bhakt

सावन के महीने में काफी संख्या में भक्त यहाँ मदिर में जल चढ़ाने आते है। जिससे आस पास के वातावरण भक्तिमय हो जाता है। शिव के भक्तगण यहाँ गेरुआ रंग के वस्त्र धारण कर आते है।

ये भी जानें

क्रेडिट कार्ड के छुपे 10 फायदे तथा नुकसान

बराबर पहाड़ घूमने कैसे आये

बराबर पहाड़ तथा आस पास बनी गुफाओं को देखने आने के लिए आप हवाई ,रेलवे तथा सड़क मार्ग से आ सकते है। यह सभी मार्गो से जुड़ा हुआ है।

हवाई मार्ग

हवाई मार्ग से आने के लिये सबसे निकट में गया तथा पटना हवाई अड्डा है। जहाँ से नियमित रूप से देश के सभी हिस्सों के लिए उड़ाने उपलब्ध है। पटना तथा गया हवाई अड्डा उतरने के बाद टैक्सी तथा बस द्वारा वाणावर पंहुचा जा सकता है।

रेल मार्ग

रेल द्वारा यहाँ पहुंचने के लिए गया या पटना सबसे निकट में बड़ा जंक्शन है। यहाँ से देश के सभी कोनो के लिये नियमित रूप से मेल ट्रेने उपलब्ध है। यहाँ आने के बाद टैक्सी या बस के द्वारा यहाँ पंहुचा जा सकता है।

सड़क मार्ग द्वारा

सड़क मार्ग से भी वाणावर अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। गया से यह २४ किलो मीटर की दुरी पर बराबर की गुफाये अवस्थित है। गया तथा पटना में होटल तथा धर्मशाला सभी के वजट में उपलब्ध है।

ऐसे ही और informational Posts पढ़ते रहने के लिए और नए blog posts के बारे में Notifications प्राप्त करने के लिए हमारे website Notification Ko Allow कीजिये. इस blog पोस्ट से सम्बंधित किसी भी तरह का प्रश्न पूछने के लिए नीचे comment कीजिये.

हमारे पोस्ट के प्रति अपनी प्रसन्नता और उत्त्सुकता को दर्शाने के लिए कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Google+ और Twitter इत्यादि पर share कीजिये.

18 thoughts on “बराबर पहाड़ की गुफाये क्यों है, इतनी रहस्यमयी”

  1. Hi, my name is Eric and I’m betting you’d like your website gayamahanagar.com to generate more leads.

    Here’s how:
    Talk With Web Visitor is a software widget that works on your site, ready to capture any visitor’s Name, Email address and Phone Number. It signals you as soon as they say they’re interested – so that you can talk to that lead while they’re still there at gayamahanagar.com.

    Reply
  2. Good Morning

    Our Medical-Grade Toenail Clippers is the safest and especially recommended for those with troubles with winding nails, hard nails, two nails, nail cracks, deep nails, thickened nails, etc..

    Best Wishes,

    Bernadette

    Reply
  3. I’ve been surfing online more than three hours nowadays, yet I by no means
    discovered any interesting article like yours. It’s beautiful value sufficient for me.

    In my opinion, if all website owners and bloggers made good content as you probably did,
    the internet shall be a lot more helpful than ever before.

    Reply
  4. My name’s Eric and I just came across your website – gayamahanagar.com – in the search results.

    Here’s what that means to me…

    Your SEO’s working.

    You’re getting eyeballs – mine at least.

    Your content’s pretty good, wouldn’t change a thing.

    BUT…

    Eyeballs don’t pay the bills.

    CUSTOMERS do.

    Reply
  5. It’s in fact very difficult in this full of activity life to listen news
    on TV, thus I only usee iinternet for that reason, and get the latest information.

    Reply
  6. Hey there, I just found your site, quick question…

    My name’s Eric, I found gayamahanagar.com after doing a quick search – you showed up near the top of the rankings, so whatever you’re doing for SEO, looks like it’s working well.

    So here’s my question – what happens AFTER someone lands on your site? Anything?

    Reply
  7. Hi,
    Are you still in business?
    I found a few errors on your site.
    Would you like me to send over a screenshot of those errors?

    Regards
    Jacob

    Reply
  8. Hey there, I just found your site, quick question…

    My name’s Eric, I found gayamahanagar.com after doing a quick search – you showed up near the top of the rankings, so whatever you’re doing for SEO, looks like it’s working well.

    So here’s my question – what happens AFTER someone lands on your site? Anything?

    Research tells us at least 70% of the people who find your site, after a quick once-over, they disappear… forever.

    NOW.

    You know, strike when the iron’s hot!

    Reply
  9. Hi, my name is Eric and I’m betting you’d like your website gayamahanagar.com to generate more leads.

    Here’s how:
    Talk With Web Visitor is a software widget that’s works on your site, ready to capture any visitor’s Name, Email address and Phone Number. It signals you as soon as they say they’re interested – so that you can talk to that lead while they’re still

    Reply
  10. Это обусловлено тем, что мобильная версия —
    это фактически отдельный сайт и затраты на его поддержку (обновление контента, дизайна и т.
    д. ) гораздо выше, чем работа с адаптивным вариантом.

    Reply
  11. Hey there, I just found your site, quick question…

    My name’s Eric, I found gayamahanagar.com after doing a quick search – you showed up near the top of the rankings, so whatever you’re doing for SEO, looks like it’s working well.

    So here’s my question – what happens AFTER someone lands on your site? Anything?

    Reply
  12. My name’s Eric and I just found your site gayamahanagar.com.

    It’s got a lot going for it, but here’s an idea to make it even MORE effective.

    Reply
  13. Hi, Eric here with a quick thought about your website gayamahanagar.com…

    I’m on the internet a lot and I look at a lot of business websites.

    Reply
  14. Hello, my name’s Eric and I just ran across your website at gayamahanagar.com…

    I found it after a quick search, so your SEO’s working out…

    Content looks pretty good…

    One thing’s missing though…

    A QUICK, EASY way to connect with you NOW.

    Reply
  15. Hi, Eric here with a quick thought about your website gayamahanagar.com…

    I’m on the internet a lot and I look at a lot of business websites.

    Reply
  16. Dear gayamahanagar.com Admin.

    My name’s Eric and I just found your site gayamahanagar.com.

    It’s got a lot going for it, but here’s an idea to make it even MORE effective

    Reply

Leave a Comment

4 − two =