गया के एक और मांझी, जो कर दिया कमाल

गया के एक और मांझी, जो कर दिया कमाल

बिहार के गया में फल्गु नदी के किनारे अमरूद का बड़ा सा बाग है। यहां रहने वाले सत्येंद्र मांझी ने इस बाग को लगाया है। लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि जहां ये बाग लगा है वहां पहले बंजर जमीन थी।

दशरथ मांझी (Dashrath Manjhi) को भला कौन भूल सकता है

बिहार के दशरथ मांझी (Dashrath Manjhi) को भला कौन भूल सकता है, जिन्होंने अपनी मेहनत के दम पर लगातार 22 साल तक छेनी-हथौड़े से पहाड़ काट कर रास्ता बनाया। उनके इस जुनून की वजह से ही आज उनको ‘माउंटेन मैन’ (Mountain Man) के तौर पर याद किया जाता है।

वहीं कई लोग उनसे प्रभावित होकर कुछ अलग कर गुजरने की राह भी पकड़ रहे हैं। उनमें से एक हैं गया जिले के सत्येंद्र मांझी (Satyendra Manjhi), जिन्होंने कुछ ऐसा कमाल किया है, जिसकी काफी चर्चा हो रही है।

ये भी जाने

दशरथ मांझी का फगुनी देवी से बचपन में ही विवाह हो गया था

Vishnupad Mandir Gaya जहाँ विष्णु का चरण अंकित है

बंजर जमीन पर 10 हजार पेड़ों का बाग

गया के सत्येंद्र मांझी ने करीब 15 साल की कड़ी मेहनत से बंजर जमीन पर 10 हजार पेड़ों का बाग लगा दिया है। उनके इस कदम की तारीफ खुद बिहार के भवन निर्माण मंत्री अशोक चौधरी (Ashok Choudhary) ने किया और कहा कि हमें आप पर गर्व है।

सत्येंद्र मांझी पेड़ो को दिखाते हुये

अशोक चौधरी ने ट्वीट में लिखा, ‘गया के सत्येंद्र मांझी ने बंजर भूमि पर 10 हजार पेड़ों का बाग बना दिया। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में ‘जल जीवन हरियाली मिशन’ के जरिए पर्यावरण हेतु जागृति और संरक्षण के लिए काम हो रहा है। सत्येंद्र मांझी जैसे लोग इस मिशन के योद्धा हैं, हमें आप पर गर्व है।’

15 साल की कड़ी मेहनत

गया स्थित बेलागंज में फल्गु नदी के किनारे अमरूद का बड़ा सा बाग है। यहां रहने वाले सत्येंद्र मांझी ने इस बाग को लगाया है। लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि जहां ये बाग लगा है वहां पहले बंजर जमीन थी।

सत्येंद्र मांझी के मुताबिक, करीब 15 साल की कड़ी मेहनत के बाद वह इस बंजर जमीन पर 10 हजार पेड़ों लगाने में सफल हुए। इनमें से ज्यादातर पेड़ अमरूद के हैं।

‘माउंटेन मैन’ दशरथ मांझी से बेहद प्रेरित हैं

सत्येंद्र मांझी ने भी ये बताया कि वह ‘माउंटेन मैन’ दशरथ मांझी से बेहद प्रेरित हैं। एक बार वह उनके घर पर भी आए थे। उस समय उन्होंने मुझे पेड़ लगाने के लिए कहा था। उनके कहने के बाद ही मैंने यह काम किया। आज पूरे 10 हजार पेड़ों का बाग लग गया है।

सत्येंद्र मांझी ने ये भी बताया कि वह लगातार पर्यावरण की सुरक्षा को लेकर कदम उठा रहे हैं। यही नहीं अमरूद के बाग से उनकी आमदनी भी बढ़ी है।

Dasharath Manjhi biography
Dasharath Manjhi biography

ऐसे ही और informational Posts पढ़ते रहने के लिए और नए blog posts के बारे में Notifications प्राप्त करने के लिए हमारे website Notification Ko Allow कीजिये. इस blog पोस्ट से सम्बंधित किसी भी तरह का प्रश्न पूछने के लिए नीचे comment कीजिये.

हमारे पोस्ट के प्रति अपनी प्रसन्नता और उत्त्सुकता को दर्शाने के लिए कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Google+ और Twitter इत्यादि पर share कीजिये.

Source – NavBharat Times

1 thought on “गया के एक और मांझी, जो कर दिया कमाल”

Leave a Comment

8 + 6 =